18 सितंबर 2011

जावेद अख्तर की साहित्यिक चोरी !

जिस तरह हमारे देश में नेताओं के सेकुलर हो जाने से उन्हें को चोरी और भ्रष्टाचार का लायसेंस मिल जाता है, ठीक वैसे ही चोरी करनेवाला साहित्यकार भी 'सेकुलर' हो तो उसका हर गुनाह माफ़ है.   
एक मिसाल देखें --
‘मेरी कुटिया के मुकाबिल आठ मंजि़ल का मकां
तुम मेरे हिस्से की शायद धूप भी खा जाओगे ! ’
कथायात्रा 1978 में एक गज़लकार दिनेशकुमार शुक्ल ने अपनी पूरी ग़ज़ल के बीच यह एक शेर लिखा था . 
बड़ी दिलचस्प बात है कि यही शेर पच्चीस साल बाद जनाब जावेद अख्तर ने अपनी किताब 'तरकस' में अपना बताकर कुछ इस तरह छापा है..

‘ऊंची इमारतों से मकां मेरा घिर गया ,                          
कुछ लोग मेरे हिस्से का सूरज भी खा गये !
 
इसे कहते हैं बेशर्मी से चोरी करके खुद को बहुत बड़ा शायर साबित करना और इसके सहारे फ़िल्मी दुनिया में करोडो रुपये कमाना.
 
लिहाजा अभी तक न तो किसी भी 'नामवर' आलोचक  ने ना ही साहित्यिक संगठन या मीडिया ने इस मामले पर प्रकाश डाला है.

आखिर जावेद अख्तर महान सेकुलर जो ठहरे.  और इस देश में सेकुलर हो जाने पर आपके सारे गुनाह माफ़ हो जाते हैं...!! ऊपर से कोंग्रेस सरकार बाकी असली साहित्यकारों को दरकिनार करते हुए उन्हें पद्मविभूषण जैसे तमगो से नवाजती है..!!













 

4 टिप्‍पणियां:

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार ने कहा…






वाह भाईजी
ग़ज़ब खोज कर लाए हैं …


लेकिन आज चारों ओर चोर ही चोर नज़र आ रहे हैं … और इनका ही बोलबाला है … :(


आपके माध्यम से एक सच सामने आया … आभार !

जाट देवता (संदीप पवाँर) ने कहा…

भाई फ़ोटो सिर्फ़ देशभक्तों के ही लगाया करो।

जीत भार्गव ने कहा…

कविमना श्री राजेन्द्र जी एवं जाटदेवता श्री संदीप जी आपके उत्साहवर्धन के लिए आभार।

चन्द्र प्रकाश दुबे ने कहा…

कुछ इसी तरह का साहित्यिक कारनामा गुलजार ने भी कमलेश्वर के साथ किया था. मुझे संभवतः कमलेश्वर की पुस्तक " कितने पकिस्तान " पढ़ने से ज्ञात हुआ.
सेकुलर का सब खता माफ.